किडनी रोग उपचार में शुरुआत में ही रोग की पहचान होना महत्वपूर्णं: डॉ. अमित शर्मा

मोहाली, 11 मार्च । डायलिसिस के मरीज और उनके परिवार के सदस्य आज फोर्टिस अस्पताल मोहाली में आयोजित ‘विश्व किडनी दिवस’ (वर्ल्ड किडनी डे) के आयोजन के लिए एक विशेष कार्यक्रम में एकत्रित हुए। डायलिसिस से गुजरने वाले किडनी फेल होने वाले रोगियों के साथ एक सहायता समूह ‘सहयाक’ के तत्वावधान में आयोजित इस सामान्य बैठक का आयोजन किया गया था। जिन लोगों का गुर्दा प्रत्यारोपण (किडनी ट्रांसप्लांट) हुआ है, वे भी इस कार्यक्रम में शामिल हुए। इस दिन को विशेष बनाया गया क्योंकि रोगियों ने डॉक्टरों को स्मृति चिन्ह भेंट किए, और रोगियों ने उपचार के दौरान अच्छे से देखभाल और सहायता करने के लिए डॉक्टर्स को धन्यवाद कहा।
डॉक्टरों की टीम का नेतृत्व डॉ.अमित शर्मा, कंसल्टेंट, नेफ्रोलॉजी, फोर्टिस हॉस्पिटल और नेफ्रोलॉजी और ट्रांसप्लांट यूनिट के अन्य प्रमुख सदस्यों ने किया।
इस वर्ष विश्व किडनी दिवस की थीम के बारे में जानकारी देते हुए, डॉ.अमित शर्मा ने कहा कि ‘‘विश्व किडनी दिवस (डब्ल्यूकेडी) हर साल हमारी किडनियों के महत्व को अच्छे स्वास्थ्य के लिए जागरूकता बढ़ाने और दुनिया भर में किडनी रोगों और उससे जुड़ी समस्याएं के प्रभावों को कम करने के उद्देश्य से मनाया जाता है। विशेष रूप से, 2021 अभियान (लिविंग वेल विद किडनी डिजीज) प्रभावी लक्षण प्रबंधन और रोगी सशक्तिकरण के महत्वपूर्ण लक्ष्यों पर शिक्षा और जागरूकता बढ़ाने के महत्व पर प्रकाश डालता है।’’
उन्होंने कहा कि किडनी रोग वाले रोगियों और उनके देखभाल करने वालों को किडनी केयर कम्युनिटीज द्वारा ठोस प्रयासों के माध्यम से अच्छी तरह से जीने के लिए समर्थन किया जाना चाहिए, खासकर वर्तमान कोविड-19 महामारी के दौरान ये और भी महत्वपूर्ण हो गया है। किडनी की बीमारी के रोगियों के लिए समग्र कल्याण कार्यक्रम में इस रोग की रोकथाम की आवश्यकता पर काफी अधिक जोर दिया जाना चाहिए। किडनी की बीमारी वैश्विक मृत्यु दर के प्रमुख कारणों में से एक है, ऐसा भारत जैसे देश में मधुमेह, उच्च रक्तचाप (हाई ब्लडप्रेशर), खराब स्वच्छता और गुणवत्ता स्वास्थ्य देखभाल के लिए अपर्याप्त पहुंच जैसे कई जोखिम कारकों की उपस्थिति के कारण होता है।
उन्होंने कहा कि ‘‘डब्ल्यूकेडी 2021 निवारक उपायों के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने की आवश्यकता पर जोर देता है। इसके अलावा, वर्तमान महामारी युग में, यह पूरी तरह से आवश्यक है कि किडनी की बीमारी वाले सभी रोगियों को स्वयं को कोविड-19 वैक्सीन भी लगवानी चाहिए। आहार और जीवन शैली संशोधनों पर जागरूकता का निर्माण और शिक्षा (व्यावहारिक सलाह सहित) प्रदान करना महत्वपूर्ण है। जल्द पहचान होने पर किडनी की बीमारी के बावजूद लंबे समय तक स्वस्थ रहने के साथ समय पर और प्रभावी हस्तक्षेप के बाद आत्म-प्रबंधन में आत्मविश्वास और नियंत्रण स्थापित करने में लंबा रास्ता तय करना होगा।’’
डॉक्टर ने कहा कि किडनी की बीमारी को रोका जा सकता है और किडनी की बीमारी को समाप्त करने के लिए प्रगति की जा सकती है ताकि बुनियादी निदान और प्रारंभिक उपचार के लिए सही जगह पर पहुंचने में किसी भी तरह की देरी ना हो। इसलिए स्वस्थ जीवनशैली (पर्याप्त पानी का सेवन, शेष फिट और सक्रिय जीवनशैली, नियमित व्यायाम, स्वस्थ आहार, रक्तचाप और ब्लड शुगर, तंबाकू नियंत्रण पर नियंत्रण रखना) को प्रोत्साहित करना और अपनाना महत्वपूर्ण है। मूत्र और रक्त परीक्षण का उपयोग करके किडनी की बीमारियों के लिए स्क्रीनिंग की जानी चाहिए। डॉक्टर्स ने कहा कि उच्च जोखिम वाले व्यक्तियों और रोग की शुरुआत में ही पहचान और उपचार की स्क्रीनिंग अंत में किडनी की बीमारियों को रोकने या देरी के लिए प्रभावी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *