सरकार की मुलाजिम विरोधी नीतियों के कारण देश के युवा एवं मुलाजिम सड़कों पर प्रदर्शन करने को मजबूर: डॉ. इंद्रजीत सिंह राणा

सरकार की मुलाजिम विरोधी नीतियों के कारण देश के युवा एवं मुलाजिम सड़कों पर प्रदर्शन करने को मजबूर: डॉ. इंद्रजीत सिंह राणा
Spread the love

चंडीगढ़, 24 दिसंबर। चुनाव की सरगर्मियां के मध्य राज्य में विभिन्न विभागों के मुलाजिमों द्वारा राज्य सरकार से अपनी मांगे पूरी करवाने का संघर्ष अपने चरम पर है। इसी कड़ी में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चल रहे हैं। राज्य सरकार तक अपनी बात पहुंचाने के लिए धरने, रैलियां रोष मार्च, भूख हड़ताल आदि भिन्न-भिन्न तरीकों से लगातार कोशिश कर रहे हैं।
इस संबंध में एनआरएचएम इंप्लाइज एसोसिएशन पंजाब और एनएचएम कोर कमेटी के प्रधान डॉ इंद्रजीत सिंह राणा का कहना है कि मौजूदा सरकार की मुलाजिम विरोधी नीतियों के कारण देश के युवा मुलाजिम और उनमें भी स्वास्थ्य विभाग जैसे अति महत्वपूर्ण विभाग के मुलाजिम आज सड़कों पर उतर कर धरने प्रदर्शन करने को मजबूर है। यह वह मुलाजिम हैं जो राज्य के लोगों को अपनी स्वास्थ्य सेवाएं देते हैं। इनमें मुख्य रूप से डॉक्टर, नर्स इत्यादि पैरामेडिकल स्टाफ एवं दफ्तरी कर्मचारी शामिल है। किसी भी सरकार की नीतियों, विकास कार्य या प्रोग्रामों को आम जनता तक पहुंचाने का कार्य ये मुलाजिम ही करते हैं। वर्तमान सरकार ने अपनी इस कड़ी की अहमियत को बहुत ही निम्न स्तर पर आंका है। डॉ राणा का कहना है कि मौजूदा सरकार एक घोषणा प्रधान सरकार है, जो केवल मात्र घोषणा करके लोगों का वोट बैंक हासिल करने की कोशिश कर रही है। इन घोषणाओं में कोई भी जमीनी हकीकत नहीं है। यह केवल मात्र एक चुनावी बुलबुला है जिनको सरकार चुनावों के बाद पूरी तरह से भूल जाएगी। डॉ राणा ने आगे बताया कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन मुलाजिमों के प्रतिनिधियों की राज्य सरकार से लगातार मीटिंग हो रही है। सरकार अपने इन कोरोना योद्धाओं पर बिना इनकी मांगें स्वीकार किए हड़ताल खत्म करने का पूरा दबाव डाल रही है। मुलाजिमों का कहना है कि उन्होंने आर पार की लड़ाई का मन बना लिया है, वह किसी भी तरह की धमकी या लालच के आगे अपने घुटने नहीं टेकेंगे। सरकार की मुलाजिम विरोधी नीतियों का कच्चा चिट्ठा वह आम जनता के बीच में खोलेंगे एवं हर संभव प्रयास करेंगे कि मौजूदा सरकार दोबारा सत्ता में ना आए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *