मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दी करनाल को 190 करोड़ रुपये के विकास कार्यों की सौगात

Spread the love

चंडीगढ़ 5 दिसंबर। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने रविवार को जिला करनाल में विकास से जुड़ी करीब 190 करोड़ रूपये की 9 भिन्न-भिन्न परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया, जिसमें 16 करोड़ रूपये की लागत से निर्मित नगर निगम का नया भवन और इसी भवन के दूसरे तल पर 153 करोड़ रूपये की लागत से स्थापित एकीकृत कमान एवं नियंत्रण केन्द्र का उद्घाटन किया।
सेक्टर-12 में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने आज करनाल जिला के लिए विकास कार्यों की झड़ी लगा दी। उन्होंने कहा कि एकीकृत कमान एवं नियंत्रण केन्द्र बनने से आपराधिक गतिविधियों पर रोक लगेगी तथा यातायात सुविधाएं सुचारू रूप से संचालित होंगी। इस मौके पर उन्होंने करनाल स्मार्ट सिटी के पार्कों में 4.5 करोड़ रूपये की लागत से बने ओपन एयर जिम का भी उद्घाटन किया। इसी प्रकार 2 करोड़ 34 लाख से सेक्टर-6, 13 व 14 की ग्रीन बेल्ट पार्कों का शिलान्यास तथा 4 करोड़ 83 लाख से नमस्ते चौक से मीरा घाटी चौक तक विकास एवं सौंदर्यकरण कार्य का शिलान्यास व 4 करोड़ 86 लाख से हांसी चौक से लेकर नमस्ते चौक तक सड़क के सुदृढ़ीकरण कार्य का शिलान्यास तथा राम नगर व बूढ़ा खेड़ा में 71 लाख 23 हजार रूपये की लागत से बनने वाली डिजीटल लाईब्रेरी का भी शिलान्यास शामिल है। मुख्यमंत्री ने इसी जगह से नीलोखेड़ी के सामान्य अस्पताल में 250 लीटर प्रति मिनट क्षमता तथा घरौंडा की सी.एच.सी. में 600 लीटर प्रति मिनट क्षमता के ऑक्सीजन प्लांट का भी उद्घाटन किया।
मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में शहर वासियों को नगर निगम के नए भवन, आई.सी.सी.सी. और दूसरी सभी विकास परियोजनाओं की बधाई देते हुए कहा कि इन परियोजनाओं से जनता को अनेक सुविधाएं मिलेंगी और उनकी जीवनशैली और बेहतर बनेगी। उन्होंने कहा कि कुछ साल पहले शहर के घंटाघर चौक पर नगर निगम का जो कार्यालय था, वह अपर्याप्त था, भीड़-भाड़ भी बहुत रहती थी। अब नया भवन एक माकूल जगह पर बन गया है, जो सबके लिए सुविधाजनक है। इसमें मेयर, निगमायुक्त, सीनियर व डिप्टी मेयर के कक्ष, दो लिफ्ट, दिव्यांग व सामान्य लोगों के लिए शौचालय, केन्द्रीयकृत वातानुकूल तथा नागरिक सुविधा की 10 खिड़कियां मौजूद कराई गई हैं। नया भवन ऐसी जगह पर स्थित है, जहां पब्लिक डिलिंग के मिनी सचिवालय, न्यायिक केन्द्र, विद्युत, एच.एस.वी.पी. व विभिन्न बैंको की बड़ी शाखाएं मौजूद हैं। इससे जनता को एक ही जगह पर सभी सरकारी सुविधाएं मुहैया होंगी।

स्मार्ट सिटी के विभिन्न आयाम, शहर में हो रहे अनेक काम

मुख्यमंत्री ने बताया कि स्मार्ट सिटी लिमिटेड का एक नहीं, विभिन्न आयाम हैं। इसके तहत बहुत सी परियोजनाओं को मूर्त रूप दिया गया है, जिनमें से अधिकांश पूरी भी हो चुकी हैं। आई.सी.सी.सी. भी उन्हीं में से एक है। हालांकि प्रदेश के गुरूग्राम और फरीदाबाद में आई.सी.सी.सी. जैसे सेंटर बने हैं, लेकिन करनाल में स्थापित सेंटर में कुछ ऐसी खूबियां हैं, जो देशभर के किसी भी सेंटर में नहीं हैं। अर्थात यातायात को नियंत्रित करने के लिए चौराहों पर जो ट्रैफिक लाईट लगी हैं, वे थर्मल कैमरो की मदद से नियंत्रित होती हैं, उदाहरणार्थ जिस लेन में ज्यादा वाहन रूके होंगे, उन्हें निकालने के लिए ग्रीन लाईट ज्यादा देर तक ऑन रहेंगी। उन्होंने कहा कि सेंटर का उद्देश्य, शहर की सभी नागरिक सेवाओं को एक मंच पर लाकर एकीकृत करना है तथा विभिन्न विभागों व एजेंसियो को एक प्लेटफार्म से जोड़कर नागरिकों को बेहतर सेवाएं प्रदान करना है। यातायात व्यवस्था को सुगम बनाने के लिए चौक-चौराहों पर, टै्रफिक लाइट सेंसर कैमरे लगाए गए हैं। इस व्यवस्था में एडोप्टिव ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम और ऑटोमेटिक नम्बर प्लेट रिकोग्निशन कैमरे शहर के विभिन्न चोराहों पर लगे हैं। इसके अतिरिक्त एमरजेंसी कॉल बॉक्स और पेनिक बटन भी लगे हैं, जिसे दबाते ही कंट्रोल रूम में सीधे पुलिस के पास अलर्ट जाएगा। चौक-चोराहों पर वेरिएबल मैसेज डिस्प्ले बोर्ड भी लगाए गए हैं, जहां से नागरिकों को सार्वजनिक सूचनाएं और दिशा-निर्देश दिए जाते हैं। दो जगहों पर लगे एंवायरमेंट सिस्टम से प्रदूषण स्तर और हवा की गुणवत्ता की जानकारी मिलती है। उन्होंने कहा कि तीसरी आंख के इस प्रोजेक्ट से शहर की सुरक्षा, निगरानी और यातायात व्यवस्थित रहेगा, जाम से मुक्ति मिलेगी। आई.सी.सी.सी. 24 घण्टे काम करेगा। मुख्यमंत्री ने संकेत दिए कि प्रदेश के दूसरे जिलो में भी इस तरह के सेंटर स्थापित किए जाएंगे।
इसके बाद मुख्यमंत्री ने नगर निगम के नए भवन का अवलोकन किया और आई.सी.सी.सी. सेंटर में बैठकर विडियो वाल को लाइव देखा। उनके साथ उपायुक्त एवं करनाल स्मार्ट सिटी लिमिटेड के सीईओ निशांत कुमार यादव भी मौजूद रहे, जो मुख्यमंत्री को सेंटर की सभी तकनीकी जानकारी, सोल्यूशन और भिन्न-भिन्न कम्पोनेंट से अवगत कराते रहे। उपायुक्त ने बताया कि ए.टी.सी.एस. के तहत 105 थर्मल कैमरे, आई.टी.एम.एस. में 35 चौराहों पर 211 कैमरे, 10 स्थानो पर स्पीड वायलेशन कैमरे, 300 से अधिक सी.सी.टी.वी. कैमरे, 35 वेरीएबल मैसेज बोर्ड तथा 2 जगहों पर एंवायरमेंट सेंसर लगाए गए हैं। सेंटर की विडियो वाल पर कैमरो से प्राप्त कैप्चरिंग के दृश्य रोमांच से भरपूर थे। इस मौके पर महापौर रेनू बाला गुप्ता ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया और विभिन्न परियोजनाओं से शहर की व्यवस्था, सौंदर्यकरण और सुविधाओं के लिए उनका आभार व्यक्त किया।
इस अवसर पर इन्द्री के विधायक राम कुमार कश्यप व नीलोखेड़ी के विधायक धर्मपाल गोंदर, भाजपा के जिलाध्यक्ष योगेन्द्र राणा, पुलिस अधीक्षक गंगा राम पुनिया, नगर निगम आयुक्त डॉ. मनोज कुमार, मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि संजय बठला भी मौजूद थे।

भ्रष्टाचार पर रोक लगाने के लिए बनाई जिला विजिलेंस कमेटी: मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने करनाल दौरे के दौरान एक कार्यक्रम में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि करनाल में जिला विजिलेंस कमेटी बनाई गई है जोकि भ्रष्टाचार और इसी प्रकार की शिकायतों का शीघ्र हल करेगी। भ्रष्टाचार पर नकेल कसने के लिए जिला विजिलेंस कमेटी को और अधिक सक्रिय किया जाएगा और इन्हें मिलने वाली सभी शिकायतों को एक निर्धारित समय अवधि में हल किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर वरिष्ठ पत्रकार केबी पंडित की पुस्तक हरियाणा पत्रकार संघ स्मारिका-2021 ‘मीडिया के बदलते रूप‘का विमोचन किया। इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री का स्वागत और अभिनंदन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *