नगर निगम के सामने सीएमसी रोड़ वर्करज यूनियन ने दिया विशाल धरना, संघर्ष का किया ऐलान

चण्डीगढ़, 29 नवम्बर। सीएमसी रोड्स वर्करज यूनियन चण्डीगढ़ के आह्वान पर मंगलवार को नगर निगम के रोड़ के कर्मचारियों ने निगम कार्यालय के सामने विशाल धरना दिया। धरने में अलग अलग बूथों के कर्मचारी भारी गिनती में शामिल थे। धरने में काफी संख्या में महिलाओं ने भी हिस्सा लिया।
धरने में सभी डेलीवेज कर्मियों को बिना शर्त तुरन्त पक्का करने व पंजाब की तर्ज पर हर वर्ग के अस्थई कर्मियों को पक्का करने की पॉलिसी बनाने व पक्का होने तक रेगुलर के बराबर वेतन देने, सभी कर्मचारियों का ईपीएफ जीपीएफ, ईएसआई की कटौती सुनिश्चित करने, रिटायरड कर्मियों को पेंशन, ग्रेच्युटी व अन्य देनदारियों का भुगतान समय पर करने, डेलीवेज व वर्कचार्ज कर्मियों को संशोधित वेतनमान लागू करना तथा 2016 के बाद रेगुलर हुए कर्मियों को संशोधित वेतन व मंहगाई भत्ता देने, समय पर वेतन देने 2019 व 2021 के बकाया वेतन का भुगतान करने तथा डी सी रेट का एरियर देने आदि मांगों को शीघ्र हल करने पर जोर दिया गया।
धरने की कार्यवाही यूनियन के महासचिव प्रेम पाल ने चलाई। धरने को यूनियन के अध्यक्ष पी. राजेन्द्र, प्रधान गुरमेल सिंह, कैशियर सुरिन्द्र सिंह आदि के इलावा फैड़रेशन के प्रधान रघबीर चन्द, महासचिव गोपाल दत्त जोशी, यूटी पावरमैन यूनियन के प्रधान ध्यान सिंह, वरिष्ठ उपाध्यक्ष अमरीक सिंह, हार्टिकल्चर के प्रधान हरकेश चन्द, सोहन सिंह, पब्लिक हैल्थ के महासचिव राजेन्द्र कटोच, प्रधान हरपाल सिंह, जनरल हास्पताल सेक्टर 16 क्लास 4 यूनियन के प्रधान रणजीत सिंह, अध्यक्ष सुरिन्द्र सिंह, स्मार्ट सिटी के प्रधान कुलदीप सिंह, उप प्रधान वरिन्द्र कुमार, इंडियन कौंसल के महासचिव बिहारी लाल, रोड्स के पूर्व प्रधान पी.कामराज आदि ने संबोधित करते हुए मांगों पर निगम के अधिकारियों के अड़ियल तथा नाकारात्मक रवैये की कड़ी आलोचना की तथा आरोप लगाया कि बार बार मिलने तथा नोटिस देने के बावजूद मांग पत्र का समाधान नहीं किया तथा ऐलान किया गया कि अगर शीघ्र बातचीत कर मांगो का समाधान नहीं किया तो लड़ीवार संघर्ष जारी रहेगा। बाद में मुख्य अभियंता व अधीक्षक अभियंता ने यूनियन के डेलीगेशन को बातचीत के लिए बुलाया तथा मांगों को निश्चित समय में बातचीत कर हल निकालने का आश्वासन दिया। इस कड़ी में 6 दिसम्बर को एस ई रोड सरकल तथा 7 दिसम्बर को चीफ इन्जीनियन एम सी के साथ विस्तार से बातचीत के लिए मीटिंग तय की गई। उसके बाद धरने का समापन किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *