रिशु, अंकुश, करन और गुरप्रीत को मिला पत्रकार सिम्मी मरवाहा स्मृति सम्मान

चंडीगढ़, 03 अप्रैल। ईमानदारी, साहस, धैर्य, सावधानी, बुद्धिमत्ता, विद्वता, मित्रता, दया, भरोसा, सामाजिक दर्द, जिज्ञासु होना पत्रकार के लिए जरूरी है, निरीक्षक, समीक्षक, आलोचक दृष्टि, दूरदृष्टि, प्रसन्नता, आशावादिता, विनोदीवृत्ति, सुरक्षात्मक दृष्टि आदि उसके व्यक्तित्व के लिए बेहद जरूरी हैं। हमारे देश में पत्रकारिता को लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ के रूप में माना जाता है। क्योंकि यह जन-जन की अभिव्यक्ति को व्यक्त करने का जनतांत्रिक तरीका है। इस लक्ष्य के तहत 18वां युवा पत्रकार सम्मान दिवस शनिवार को चंडीगढ़ प्रैस कल्ब में आयोजित किया गया।
हिन्दी प्रिंट मीडिया श्रेणी में चंडीगढ़ के अमर उजाला से रिशु राज, वेब मीडिया में दैनिक सवेरा के अंकुश महाजन, पंजाब युनिवर्सिटी चंडीगढ़ से मॉस कॉम्युनिकेशन पत्राचार के इस बार के टॉपर अस्सिटेंट प्रोफेसर करन सिंह विनायक और 2020 की इसी क्षेणी में टॉपर गुरप्रीत कौर को ट्रस्ट की ओर से यह सम्मान प्रदान किये गये। इस दौरान आई टीवी नेटवर्क के ग्रुप एडिटर अजय शुक्ला, चंडीगढ़ प्रैस कल्ब के अध्यक्ष नलिन आचार्य, सीनियर पत्रकार प्रेम विज, संतोष गुप्ता और खादी भवन से डॉ के के शारदा उपस्थित थे। कार्यक्रम में सुखविंदर कौर ने किसानी संघर्ष के शहीदों की याद में सुंदर गीत प्रस्तुत किया।
ट्रस्ट की मैनेजिंग ट्रस्टी कवियत्री राजिंदर रोजी की अगुवाई में आयोजित इस कार्यक्रम के दौरान प्रिंट मीडिया,इलैक्ट्रॉनिक मीडिया, वेब मीडिया को उनके प्रभावशील कार्यो के लिए तथा पंजाब युनिवर्सिटी चंडीगढ़ से मॉस कॉम पत्राचार के टॉपर छात्र को शुद्ध चांदी के सिम्मी मरवाहा स्मृति सम्मान प्रदान किए गए।
ट्रस्ट के सदस्य बलजीत मरवाहा ने अपने संबोधन में कहा कि पत्रकारिता क्षेत्र में बीते समय के दौरान जिस तरह से नई तकनीक आई है उसी तरह युवाओं के लिए चुनौतियां भी बढ़ी हैं। उन्होंने बताया कि हर साल 3 अप्रैल को सिम्मी के जन्म दिवस को युवा पत्रकार सम्मान दिवस के तौर पर मनाया जाता है। ट्रस्ट अभी तक देश भर से 64 पत्रकारों को सम्मानित कर चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *