मिस्टर स्माइली, चारमिंग व स्मार्टी बॉय अब बन गया हीरों

मोहाली 23 मार्च । मुझे यकीन नही हुआ जब डायरेक्टर ने कहा कि क्या आप हमारी आगामी फिल्म में काम करना पसंद करोगें तो मैं दो मिन्ट के लिए तो स्तम्भ रह गया, खुशी से मेरे आंसु झलक गये और वह चेहरे का भाव समझ गये। मैंने जिस जनून के साथ एक्टिंग का ऑडिशन दिया था उस पर तो मैग्फिशंट फिल्म प्रोडक्शन (एमएफपी)की टीम ने मेरी प्रशंसा ही करनी शुरू कर दी। यह कहना है मॉडल दीपेंद्रजीत सिंह संधू का।
दीपेंद्रजीत सिंह संधू ने आगे बताया कि ऑडिशन देने के बाद प्रोडक्शन हाऊस द्वारा प्रोफेशनल शो रील बनाई गई जिसको टीम ने खूब सराहा और मैग्फिशंट फिल्म प्रोडक्शन के मैंनेजिंग डायरेक्टर रोहित कुमार तथा मंजुल बत्रा ने उन्हें फिल्म में काम करने का सुअवसर दिया जिसपर उन्होंने हांमी भर दी। रोहित कुमार का कहना है कि फिल्म जल्द ही बनाई जायेगी जो कि बड़े पर्दें पर रिलीज की जायेगी।
दीपेंद्रजीत सिंह संधू, अमेरिका में बी.एससी रेडियोलॉजी विषय में पढ़ाई कर रहे हैं तथा मोहाली के फेस 10 के स्थानीय निवासी है, किसी दोस्त के रेफरेंश से वे मोहाली स्थित मैग्निफि शंट फिल्म प्रोडक्शन हाऊस में पहुंचे तो अपनी एक्टिंग व मॉडलिंग का ऑडिशन दिया जिसके बाद प्रोडक्शन हाऊस के मैनेजिंग डायरेक्टर रोहित कुमार जो कि फिल्मी एक्टर भी हैं, ने उनका ऑडिशन लिया और वन टेक में ही उन्हें अपनी आगामी फिल्म के लिए स्लेक्ट कर लिया।
उम्र 22 वर्ष, कद 6 फुट 3 इंच के दीपेंद्रजीत संधू अपने दोस्तों के बीच मिस्टर स्माइली, चारमिंग व स्मार्टी बॉय माने जाते है वे अपने दोस्तों के बीच यारों के यार कहलाते हैं। संधू ने बताया कि उन्होंने ज्यादा तो नही लेकिन बहुत कम मॉडलिंग की है, वह भी अमेरिका में, लेकिन मॉडलिंग का जो स्कोप मुझे भारत में दिखा उससे मैं खिंचा चला आया। यहां आकर मुझे पता चला कि मैग्फििशंट फिल्म्स प्राईवेट लिमिटेड, मोहाली युवा कलाकारों का ऑडिशन ले रही है तो मैंने भी ऑडिशन दिया और मुझे मेरे लुक्स, स्टाइल व एक्टिंग में बेहतर प्रदर्शन करने पर चुन लिया गया, साथ ही मुझे मैग्नििफिशंट के बैनर तले आने वाली फिल्म का ऑफर दिया गया जिसने मेरे मनोबल को बढ़ाया।
उन्होंने बताया कि मॉडलिंग में कैरियर बनाना मेरा सपना था लेकिन फिल्मों में आना मेरा उत्साह था जिसे
एमएफपी ने पूरा कर दिया अब मैं एक्टिंग में अपना कैरियर बनाऊंगा।
उन्होंने बताया कि लॉग ड्राइव करना, विभिन्न स्थानों में घूमना, माऊंटेनिंग करना मेरा शौक रहा है। मैंने विदेशों की यात्रा भी की है और उनके कल्चर का जाना है। दीपेंद्रजीत की पिता लाल सिंह संधू एक एडवोकेट हैं और उनकी माता सुरिंदर कौर चंडीगढ़ के एक सरकारी स्कूल में टीचर हैं उनकी बहन रीतिंदर कौर है जो कि न्यूज़ीलैड़ में रहती हैं।
दीपेंद्रजीत सिंह संधू को एमएफपी के मैंनेजिंग डायरेक्टर रोहित कुमार एक्टिंग व गु्रमिंग के गुर सीखा रहे हैं व कहते हैं कि यदि कोई कार्य जोश व जनून के साथ साथ प्रोफेशनल तरीके सी की जाये तो सफलता मिलना सुनिश्चित हो जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *