कुलवंत सिंह जोसन को संयुक्त समाज मोर्चा ने कपूरथला से चुनाव मैदान में उतारा

कुलवंत सिंह जोसन को संयुक्त समाज मोर्चा ने कपूरथला से चुनाव मैदान में उतारा
Spread the love

कपूरथला, 23 जनवरी। शिरोमणि अकाली दल में लंबे समय तक विभिन्न पदों पर काम करने के बाद रिवायती पार्टियों की सियासत से किनारा कर सवा साल पहले किसान आंदोलन से जुड़ने वाले कुलवंत सिंह जोसन  को संयुक्त समाज मोर्चा की ओर से विधान सभा हलका कपूरथला से चुनाव मैदान में उतारा गया है जोसन के अलावा सुल्तानपुर लोधी से हरप्रीतपाल सिंह विर्क सहित पंजाब के 22 हलकों से उम्मीदवारों की घोषणा करते हुए अध्यक्ष बलबीर सिंह राजेवाल ने विरासती विधान सभा हलके के राजनीतिक पारे को काफी बढ़ा दिया है।1988 में किरती किसान यूनियन से समाजिक व राजनीतिक कार्यों की शुरुआत करने वाले कुलवंत सिंह जोसन 1995 में शिरोमणि अकाली दल में शामिल हो गए। 1998 से लेकर 2012 तक वह यूथ अकाली दल के राष्ट्रीय महासचिव रहे।
इस समय दौरान तत्कालीन पंजाब के ट्रांसपोर्ट मंत्री रघबीर सिंह के साथ जोसन की काफी नज़दीकिया भी रही इसके अलावा वह पांच साल यूथ अकाली दल पंजाब के सीनियर वाइस प्रधान भी रहे। इसके बाद जोसन अकाली दल की वर्किग कमेटी के मेंबर भी रहे। किसान आंदोलन के साथ जुड़ने से पहले कुलवंत सिंह जोसन अकाली दल में जत्थेबंदक सचिव के पद पर कार्यरत थे।कुलवंत सिंह जोसन एक कामरेड विचारधारा वाले नेता माने जाते थे जिन्होंने राजनीतिक पार्टियों से अलग राह अपनाते हुए किसान आंदोलन को प्रमुखता दी। संयुक्त समाज मोर्च के अध्यक्ष बलबीर सिंह राजेवाल की तरफ से उन्हें कपूरथला हलके से विधायक पद के उम्मीदवार के तौर पर चुनावी मैदान में उतारने का ऐलान किया गया है।लगभग 51 साल के कुलवंत सिंह जोसन का जन्म गांव कोकलपुर में हुआ, जिन्हें ट्रेड यूनियन से जुड़ने का विरासत में ही गौरव रहा है। जोसन के चाचा टेक सिंह टक्कर एक बड़े किसान नेता माने जाते थे, जिन्होंने काफी लंबे समय तक किरती किसान यूनियन की प्रधानगी की।
कुलवंत सिंह जोसन का चचेरा भाई कुलविंदर सिंह जोसन नौजवान भारत सभा में सरगर्म युवा नेता रहा है जो आजकल कनाडा में रह रहे है वर्ष 1977 में गांव छोड़ कर कुलवंत सिंह जोसन अपने परिवार के साथ कपूरथला शहर में आकर बस गए और उन्होंने राजनीति के साथ साथ कृषि के विभिन्न किस्म के औजार बनाने का कार्य शुरू किया।कुलवंत सिंह जोसन ने बताया कि उनकी प्राथमिकता किसान के समस्याओं का समाधान करवाना था। चुनाव राजनीति की कोई योजना नही था। संयुक्त समाज मोर्चे के वरिष्ठ नेताओं व बलबीर सिंह राजेवाल तरफ से उन पर बहुत बड़ा भरोसा जताया गया है। उसके मद्देनजर अब वह घर घर जाकर दस्तक देगे और हलके की जनता को संयुक्त समाज मोर्चे के पक्ष में लामबंद करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *