तरावड़ी में सम्राट पृथ्वीराज चौहान को समर्पित शोध संस्थान व स्मारक की लंबित कार्य भी बगैर देरी के प्रारंभ किया जाए: चौहान

करनाल, 10 अक्टूबर। तरावड़ी स्थित सम्राट पृथ्वीराज चौहान के किले के अवशेष ऐतिहासिक, पुरातात्विक और भावनात्मक महत्व रखते हैं।  इस स्थल  का पुरातत्व की दृष्टि से संरक्षण और जीर्णोद्धार जल्द से जल्द प्रारंभ होना चाहिए। साथ ही तरावड़ी में सम्राट पृथ्वीराज चौहान को समर्पित शोध संस्थान व स्मारक की स्थापना का बरसों से लंबित कार्य भी बगैर देरी के प्रारंभ होना आवश्यक है। हरियाणा ग्रंथ अकादमी के उपाध्यक्ष और भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता डॉ. वीरेंद्र सिंह चौहान ने तरावड़ी किला परिसर का दौरा करने के बाद यहां जारी एक विज्ञप्ति में यह बात कही।
भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि प्रस्तावित स्मारक व शोध केंद्र के संबंध में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की घोषणा को अमल में लाने के मार्ग की बाधाओं को जल्द से जल्द दूर करने के प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि इस संबंध में जिला प्रशासन आला अधिकारियों के साथ विमर्श के बाद वह स्वयं मुख्यमंत्री को तथ्यों से अवगत कराते हुए  उनसे हस्तक्षेप के लिए अनुरोध करेंगे।  किला परिसर के दौरे के दौरान राजपूत सभा करनाल के प्रेस सचिव डॉ. एन. पी. सिंह भी मौजूद थे।
वीरेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि तरावड़ी के ऐतिहासिक महत्व को रेखांकित करने, किले के संरक्षण की दिशा में क्षेत्र के लोगों को जागरूक करने और स्मारक निर्माण की अवधारणा को धरातल पर उतारने  के कार्य में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के तत्कालीन प्रांत-संघचालक, पद्म भूषण से अलंकृत स्वर्गीय दर्शन लाल जैन की अहम भूमिका रही। उन्होंने योद्धा स्मारक समिति के माध्यम से इस विषय को अनेक अवसरों पर प्रभावी ढंग से उठाया। डॉ. चौहान ने कहा कि तरावड़ी में स्मारक का निर्माण सम्राट पृथ्वीराज चौहान समेत देश के योद्धाओं को सच्ची श्रद्धांजलि होगा और यह कार्य कर राज्य सरकार सरस्वती नदी शोध संस्थान की स्थापना सहित अनेक महत्वपूर्ण कार्य करने वाले स्व. दर्शन लाल जैन का अधूरा सपना भी साकार करेगी।
डॉ. वीरेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि वह स्वयं योद्धा स्मारक समिति और जनाधिकार चेतना मंच के माध्यम से ऐतिहासिक स्थल की और तरावड़ी नगर की गरिमा बहाल करने के संघर्ष के साथ बरसों से जुड़े हैं। उन्होंने विश्वास जताया कि इलाके के लोगों का यह अधूरा सपना राज्य सरकार जल्द साकार करेगी और यहां बनने वाला स्मारक व शोध केंद्र आने वाली पीढ़ियों के लिए ही नहीं अपितु वर्तमान युवा शक्ति के लिए भी रचनात्मक ऊर्जा का केंद्र बनकर उभरेगा।

काटजू नगर की समस्याओं का भी होगा समाधान

सम्राट पृथ्वीराज चौहान के किले के देशों का अवलोकन करने पहुंचे भाजपा प्रवक्ता किले में बसने वाले काटजू नगर के स्थानीय निवासियों से भी बातचीत की।  इस अवसर पर बुजुर्ग निहालचंद ने बताया कि सभी किलावासियों को नगर पालिका की ओर से संपत्ति कर के किस भेजे गए हैं उनमें ₹600 यूजर चार्ज के नाम से जोड़े गए हैं। स्थानीय निवासी काफी पड़ताल करने के बाद भी इस नए कर का अर्थ समझ नहीं पाए हैं। इस पर डॉ वीरेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि वे स्थानीय प्रशासन के अधिकारियों से विमर्श कर इस मामले की तह में जाने का प्रयास करेंगे। उन्होंने  पूर्व विधायक भगवान दास कबीरपंथी से भी इस मामले में हस्तक्षेप के लिए अनुरोध किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *