युवाओं का कोविड टीकाकरण तथा मानसिक स्वास्थ्य विषय पर वेबिनार आयोजित

चंडीगढ़, 20 मई । आज के दौर में कोविड महामारी के दौरान लोगों का मानसिक तनाव बहुत बढ़ गया है जिसका हमारे शारीरिक, मानसिक तथा सामाजिक स्वास्थ्य पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ा है। यह बात डॉक्टर संजीव कुमार सहायक प्रोफेसर सेंटर फॉर साइकोलॉजिकल सपोर्ट इन डिजास्टर मैनेजमेंट, निमहंस, बेंगलुरू ने आज युवाओं में कोविड टीकाकरण तथा महामारी के दौरान मानसिक स्वास्थ्य विषय पर एक वेबिनार को संबोधित करते हुए कही। इस वेबिनार का आयोजन सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार के क्षेत्रीय लोक संपर्क ब्यूरो तथा पत्र सूचना कार्यालय चंडीगढ़ द्वारा आयोजित किया गया।
डॉक्टर संजीव ने तनाव नियंत्रण के विभिन्न पहलुओं के बारे में कहा कि शारीरिक, मानसिक व सामाजिक स्वास्थ्य एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि परिस्थितियों के बदलने से हमारी सोच और व्यवहार में भी बदलाव आता है जो हमारी जीवन शैली तथा शारीरिक सामाजिक स्वास्थ्य को भी अत्यधिक प्रभावित करता है। अतः मानसिक व शारीरिक संतुलन बिगड़ने का कारण बनता है। उन्होंने कोविड महामारी के दौरान धैर्य बनाए रखने तथा इधर-उधर की समस्याओं पर ध्यान ना देते हुए कोविड उचित व्यवहार का पालन करते हुए खुद को सुरक्षित बनाए रखने की ओर ध्यान केंद्रित करने का सुझाव दिया। उन्होंने कोविड से ठीक हुए लोगों को भी अपनी पुरानी दिनचर्या में सक्रिय होते हुए संक्रमण के दौरान हाय मानसिक तनाव को हावी ना होने देने का परामर्श दिया।
वेबिनार में युवाओं में कोविड टीकाकरण के विषय पर संबोधित करते हुए डॉ राजीव दासगुप्ता, चेयरपर्सन, सेंटर ऑफ सोशल मेडिसिन एंड कम्युनिटी हेल्थ, जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी दिल्ली ने कहा 18-44 वर्ष आयु वर्ग को स्वस्थ आयु वर्ग समूह माना जाता है परंतु दूसरी लहर के सट्रेन ने जिस तरह से इस वर्ग के युवाओं को संक्रमित किया है, उसे देखते हुए उनका टीकाकरण और भी आवश्यक हो जाता है। डॉ दासगुप्ता ने कहा कि युवाओं में कोविड के हलके लक्षण के प्रभाव की संभावना को देखते हुए उनको टीकाकरण के लिए प्रेरित किया जाना चाहिए तथा पंजीकरण के बाद स्लॉट मिलने पर उन्हें वैक्सीनेशन जरूर करवाना चाहिए। उन्होंने विदेशों से आने वाले वैक्सीन की प्रतीक्षा में समय ना गवा कर भारत में निर्मित व उपलब्ध टीके लगवाने की सलाह दी। इस सत्र के दौरान डॉ शेखर, प्रोफेसर एवं हेड सेंटर फॉर साइकोसोशल सपोर्ट इन डिजास्टर मैनेजमेंट, निमहंस, बेंगलुरू ने भी मानसिक तनाव प्रबंधन पर संबोधित किया।
सत्र के आरंभ में पत्र सूचना कार्यालय चंडीगढ़ के सहायक निदेशक श्री हितेश रावत ने विशेषज्ञों तथा सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया तथा मंत्रालय द्वारा कोविड महामारी के दौरान लोगों को जागरूक करने हेतु की जाने वाली प्रचार गतिविधियों की जानकारी दी। इस वेबिनार के दौरान क्षेत्रीय लोक संपर्क ब्यूरो चंडीगढ़ की सहायक निदेशक सुश्री सपना ने भाग लेने वालों तथा विशेषज्ञों के बीच आपसी संवाद का संचालन किया। सत्र के समापन पर क्षेत्रीय लोक संपर्क ब्यूरो चंडीगढ़ की सहायक निदेशक संगीता जोशी ने विशेषज्ञों द्वारा किए गए संबोधन को भाग लेने वालों के लिए बहुत उपयोगी बताया तथा सभी का आभार व्यक्त किया। वेबिनार में चंडीगढ़, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश के 100 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *