फ्रांस के राजदूत ने की बनवारीलाल पुरोहित के साथ मुलाक़ात

चंडीगढ़, 14 मई। भारत में फ्रांस के राजदूत, इमैनुएल लेनिन ने चंडीगढ़ की अपनी यात्रा के दौरान शनिवार को पंजाब के राज्यपाल और प्रशासक, यू.टी., चंडीगढ़, बनवारीलाल पुरोहित से मुलाकात की।
पंजाब राजभवन में आयोजित एक बहुत ही सौहार्दपूर्ण बैठक के दौरान यू.टी. के प्रशासक ने कहा कि चंडीगढ़ के साथ फ्रांस के संबंधों को कभी भी भुलाया नहीं जा सकता क्योंकि इस शहर की स्थापना से लेकर इसकी योजना और क्रियान्वयन तक फ्रांस का बहुत बड़ा योगदान रहा है। उन्होंने कहा कि फ्रांसीसी वास्तुकार ली कॉर्बूजियर ने इस ‘सिटी ब्यूटीफुल’ को डिजाइन किया था और अब शहर को ‘स्मार्ट सिटी’ में बदलने की दिशा में फ्रांसीसी सलाहकार अपनी विशेषज्ञता प्रदान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि चंडीगढ़ को आशा है कि इसके विरासती फर्नीचर की पहचान, उसकी बहाली अथवा कानूनी रक्षण के साथ-साथ शहर की स्थापत्य विरासत के संरक्षण के क्षेत्र में चंडीगढ़ को फ्रांसीसी विशेषज्ञता का पूरा सहयोग मिलेगा।
उन्होंने जलापूर्ति परियोजना में फ्रांस के सहयोग की सराहना की। पानी की मांग और आपूर्ति के अंतर को पूरा करने के लिए, फ्रांसीसी सरकार विकास एजेंसी की वित्तीय सहायता से शहर में जल्द ही 24×7 जलापूर्ति परियोजना शुरू की जाएगी।
फ्रांसीसी राजदूत ने पूर्ण सहयोग का आश्वासन देते हुए कहा कि फ्रांसीसी विशेषज्ञ कैपिटल कॉम्प्लेक्स और अन्य अनावृत कंक्रीट इमारतों में बहाली और संरक्षण कार्यों को सफलतापूर्वक पूरा करेंगे। उन्होंने फ्रांस में भारत के छात्रों के लिए अधिक शैक्षिक अवसरों के लिए उच्च शिक्षण संस्थानों के साथ साझेदारी का सुझाव भी दिया। उन्होंने कहा, ‘‘फिलहाल भारत के करीब 10,000 छात्र फ्रांस में पढ़ रहे हैं और हमें उम्मीद है कि अगले साल तक यह संख्या दोगुनी हो जाएगी।’’
इमैनुएल लेनिन ने प्रशासक के साथ बातचीत करते हुए कहा कि दोनों देशों के बीच अच्छे कामकाजी संबंध हैं, और साथ ही कहा कि आपसी हित के क्षेत्र में नए समाधान खोजने से इन संबंधों को और मजबूत करने में मदद मिलेगी।
इस मुलाक़ात दौरान भवन निर्माण के क्षेत्र में ज्ञान साझा करने के लिए गठजोड़, पेरिस की तर्ज पर चंडीगढ़ में यातायात प्रबंधन के लिए सुझाव आदि पर भी चर्चा की गई। स्वच्छ, हरित स्मार्ट सिटी परियोजना, गांवों के शहरी नवीनीकरण, अपशिष्ट प्रबंधन और बुनियादी ढांचे में सुधार संबंधी जानकारी भी साझा की गई।
इस बैठक में प्रशासक के सलाहकार धर्म पाल, राज्यपाल के प्रमुख सचिव जेएम बालामुरूगन, गृह सचिव एवं यू.टी., नितिन कुमार यादव, वित्त सचिव, डॉ. विजय नामदेवराव ज़ादे भी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.