बिजली कर्मियों ने काम का बहिष्कार कर रोष रैलियां की, 24 जनवरी को मार्च तथा 1 फरवरी को मुकम्मल हड़ताल

चण्डीगढ़, 21 जनवरी। बिजली कर्मचारियों ने अपनपे चल रहे संघर्ष की कड़ी में आज सभी सब डिविजन व डिविजन कार्यालयों में सुबह 2 घंटे का बहिष्कार कर रोष रैलियां की। इन रोष रैलियों का आयोजन मुनाफे में चल रहे बिजली विभाग का निजीकरण रद्द करने, कम्रचारियों को पीएसपीसीएल के आधार पर संषोधित वेतनमान का भुगतान शीघ्र करने, कर्मचारियों की रोकी हुई प्रमोषन शीघ्र करने आदि मांगों पर प्रषासन के नकारात्मक रवैये के विरोध में किया गया। अलग अलग कार्यालयों की गई रोष रैलियों को यूनियन के प्रधान ध्यान सिंह, महासचिव गोपाल दत्त जोषी, वरिष्ठ उप प्रधान अमरीक सिंह, उप प्रधान गुरमीत सिंह, रणजीत सिंह, ललित सिंह, अमित दिगरा, राम गोपाल, रेषम सिंह, दलेर सिंह, हरजिन्दर सिंह, स्वर्ण सिह, विरेन्द्र सिंह, विजय अग्रवाल, राजेन्द्र ठाकुर, तिलक राज, टेक राज, मक्खन सिंह आदि ने सम्बोधित करते हुए आरोप लगाया कि केन्द्र सरकार व चण्डीगढ़ प्रषासन एक तरफ चण्डीगढ़ प्रषासन बिजली विभाग को गैर कानूनी तौर पर बेचने को उतारू है तथा कर्मचारियों की सेवा शर्तो पर तलवार लटकी है तथा चण्डीगढ़ की जनता की जेब पर भी भारी डाका डालने पर उतारू है, दूसरी तरफ चण्डीगढ़ प्रषासन कर्मचारियों की छोटी से छोटी मांगों की भी अनदेखी कर रहा है। निजीकरण का बहाना लगाकर प्रशासन ने पिछले 2-3 सालों से विभाग में खाली पोस्टें नियमित तौर पर भरनी बंद कर दी थी तथा विभाग के स्टोर में जरूरी समान की खरीददारी भी रोक ली। बहुत दुर्भाग्य की बात यह है कि पिछले साल जनवरी से प्रशासन ने संषोधित पोस्टों के आधार पर योग्य व अनुभवी कर्मचारियों की प्रमोशन पर भी तलवार चला दी है। बार बार ज्ञापन देने के बावजूद भी प्रमोशन के केस रोके हैं। इस कारण 30-35 साल से एक ही पोस्ट पर बैठे कर्मचारी एक भी प्रमोशन लिए बिना रिटायर हो रहे हैं। अब प्रशासन पहले से लागू पी एस पी सी एल के संशोधित वेतनमान को भी लागू नहीं कर रहा है। प्रशासन के वित्त विभाग जिसके अधीन इंजीनियरिंग विभाग (बिजली विभाग) भी है ने अभी तक पी एस पी सी एल द्वारा 17.11.2021 तथा उसके बाद 1.12.2021 को लागू संशोधित वेतनमान भी लागू नहीं किया है। एक तरफ तो प्रषासन दमगजे मार रहा है कि कर्मचारियों के वेतनमान, सेवाषर्ते व पेंषनरी लाभ पहले की तरह जारी रहेंगे दूसरी तरफ प्राईवेट हाथों में बेचने से पहले ही सब कुछ छीना जा रहा है जिसके विरोध में बिजली के कर्मचारी  संघर्ष को अगली  कड़ी निजीकरण के खिलाफ व सभी सेवाषर्ते बरकरार रखने के लिए 24 जनवरी को आधे दिन काम का बहिष्कार कर बिजली दफ्तर सैक्टर 17 के नजदीक सुबह 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक रैली प्रर्दषन कर गर्वनर हाउस मार्च करेंगे तथा ज्ञापन सौपेंगे तथा 1 फरवरी को सारी षिफ्टों में 1 दिन की मुकम्मल हड़ताल करेंगे तथा विषाल रैली व प्रर्दषन करेंगे जिसमें अलग अलग विभागों के कर्मचारी तथा बिजली कर्मचारियों व अभियन्ताओं की राष्ट्रीय समन्वय समिति के पदाधिकारी भी सम्मिलित होंगे व संषोधन करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.