बसपा के दबाव के चलते कांग्रेस मुख्यमंत्री को लड़वा रही दो क्षेत्रों से चुनाव: जसवीर सिंह गढ़ी

फगवाड़ा-जालंधर, 12 जनवरी। पंजाब बसपा के प्रधान जसवीर सिंह गढ़ी के नेतृत्व में प्रदेश स्तरीय बैठक हुई। जिसमें बसपा प्रदेश कमेटी के सदस्य, हलका इंचार्ज, जिला इंचार्ज शामिल हुए। बैठक के दौरान पंजाब के राजनीतिक माहौल पर विस्तार से चर्चा करते हुए आगामी चुनावों को लेकर रणनीति पर विचार विमर्श किया गया।
बैठक के दौरान जसवीर सिंह गढ़ी ने कहा कि पूरे पंजाब के बसपा नेता, वर्करों और समर्थकों की अथक मेहनत के चलते आजादी के 74 सालों के बाद पंजाब में बहुजन समाज का आंदोलन खड़ा हो पाया है। इसी के चलते कांग्रेस पार्टी की ओर से दलित मुख्यमंत्री के नाम पर चरणजीत सिंह चन्नी को पंजाब का मुख्यमंत्री बनाया गया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चन्नी की ओर से समय-समय पर एससी वर्ग के लिए जो भी घोषणाएं की गई, उनका भांडा भी बसपा की ओर से फोड़ा गया और उनके एससी समाज के साथ किए गए वायदों को एससी समाज के साथ विश्वासघात बताया। जसवीर सिंह गढ़ी ने कहा कि आज कांग्रेस मुख्यमंत्री चन्नी को दो विधानसभा सीटों से लड़ाने की कोशिश कर रही है, जिस लेकर जल्द ही पार्टी की ओर से घोषणा भी की जाएगी। उन्होंने कहा कि बहुजन समाज पार्टी कांग्रेस के इस फैसले का स्वागत करती है और पंजाब के लोगों को बताना चाहते है कि बसपा के दबाब के चलते  पहले कांग्रेस पार्टी ने दलित मुख्यमंत्री के रुप में चरणजीत सिंह चन्नी को पंजाब का मुख्यमंत्री बनाया और अब विधानसभा चुनावों को लेकर उन्हें आदमपुर और चमकौर साहिब सीट से चुनाव लड़ाना चाहती है।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी इस तरह की रणनीति अपनाकर पंजाब के एससी समुदाय को गुमराह करने की कोशिश कर रही है, जिसमें वह सफल नहीं हो पाएगी। जसवीर सिंह गढ़ी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी बसपा के हाथी के सामने अपना घुटने टेक चुकी है। उन्होंने कहा कि सीएम चन्नी ने एससी समाज के लिए 100 करोड़ रुपए के अलग-अलग योजनाओं के लिए घोषित किए है। लेकिन इनका लाभ एससी समाज को नहीं मिल पाया है और उन्हें धोखा दिया है। जिसके तहत कपूरथला पीटीयू में 100 करोड़ का वैबकार का न बनना, आमदपुर में गुरु रविदास महाराज के नाम पर 4 मार्गिय सड़क नहीं बन बाई है। आदमपुर में बने एयरपोर्ट का नाम गुरु रविदास महाराज जी के नाम पर रखने के लिए केंद्र सरकार को प्रस्ताव न भेजना। दलित कर्मचारियों के प्रमोशन को रोकने के लिए 85वां संशोधन को लागू नहीं करना और 10-10-2014 के पत्र को रद्द न करना। पोस्ट मैट्रिक स्कीम योजना का दुरुपयोग करना।
इस स्कीम में हुए घोटाले को लेकर कैबिनेट मंत्री साधू सिंह धर्मशोत और तत्कालिन विभाग के डायरेक्टर रहे फगवाड़ा के मौजूदा विधायक बलविंदर सिंह धालीवाल पर कोई कार्रवाई न करना। श्री चमकौर साहिब और श्री आनंदपुर साहिब विधानसभा सीटे बसपा को मिलने पर सांसद रवनीत बिट्टू द्वारा दिए गए बयानों पर कोई कार्रवाई नहीं करना। जसवीर सिंह गढ़ी ने कहा कि सीएम चरणजीत सिंह चन्नी दलित चेहरा  होते हुए भी दलित कर्मचारियों का कोई भी मसला हल नहीं करवा पाए।  चुनाव आयोग की ओर से पंजाब में चुनावों की तारीख को 14 फरवरी की घोषणा की गई है। लेकिन श्री गुरु रविदास महाराज के प्रकाश पर्व को लेकर बड़ी संख्या में रविदास नामलेवा संगत शीर गोवर्धन बनारस में माथा टेकने के लिए जाती है। इस बार गुरु महाराज का प्रकाश पर्व 16 फरवरी को मनाया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह की ओर से चुनाव आयोग को पंजाब में चुनावों की तारीख को बदलने को लेकर कोई अपील नहीं की गई। जसवीर सिंह गढ़ी ने कहा कि सीएम चन्नी एक दलित चेहरा हो सकते है, लेकिन वह एससी समाज के विरोधी है। क्याेंकि उन्होंने सीएम बनने के बाद से ही एससी वर्ग के साथ जोड़े वादे किए और उन्हें गुमराह करने की कोशिश की है। इस मौके पर पंजाब हरियाणा और चंडीगढ़ के इंचार्ज रणधीर सिंह बेनीपाल, पंजाब इंचार्ज भगवान सिंह चौहान, रजिंदर सिंह रीहल, रमेश कौल, हरजीत सिंह लौंगिया, मनजीत सिंह अटवाल, अजीत सिंह भैणी, प्रदेश महासचिव रजिंदर सिंह व सुखदेव सिंह सीहरा भी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.