बार एसोसिएशन कपूरथला के सदस्य आज बार के प्रधान एडवोकेट खल्लार सिंह धम्म की अगुवाई में डिप्टी कमिश्नर डिप्टी उप्पल को मांग पत्र देने पहुंचे  

कपूरथला 10 जनवरी। बार एसोसिएशन कपूरथला के सदस्य आज बार के प्रधान एडवोकेट खल्लार सिंह धम्म की अगुवाई में डिप्टी कमिश्नर डिप्टी उप्पल को मिलने गए।जहां पर उन्होंने शुक्रवार को बार की तरफ से उपभोक्ता कमीशन के चेयरमैन ललित पाठक, मेंबर राजिता सरीन ओर रीडर गुरप्रताप के खिलाफ जो मता पास किया उसकी एक कॉपी जिलाधीश की रीडर सरोज बाला को सौंपी ओर मांग की जल्द से जल्द उनकी मांगों पर करवाई हो नही तो बार एसोसिएशन अपना संघर्ष और तेज करेगी और राज्य स्तर पर बार एसोसिएशन में यह मसला लेकर जाया जाएगा।
गौरतलब है कि शुक्रवार बार एसोसिएशन कपूरथला की एक मीटिंग प्रधान खल्लार सिंह धम्म की अध्यक्षता में हुई थी जिसमे उपभोक्ता कमीशन कपूरथला के चेयरमैन की तरफ से वकीलो के साथ किये जा रहे दुर्व्यवहार के बारे में चर्चा हुई तथा ताजा मामले में टी एस ढिल्लों वकील के साथ चेयरमैन ललित पाठक की हुई बहस बाजी को लेकर निंदा की गई और बार के कई वकीलो ने बताया कि ललित पाठक का वकीलो के साथ व्यवहार काफी गलत है तथा वह अपनी मनमर्जी से इस कमीशन को कानून के दायरे से बाहर रह चला रहे वही टी एस ढिल्लों ने बताया कि उपभोगता कमीशन रेगुलेशन 2020 की धारा 3 के तहत उपभोक्ता कमिशन को हाल में ऊंची कुर्सी लगाने के इजाजत नही ओर वह उपभोक्ता से सिर्फ 30 सेंटीमीटर ही अपने टेबल को ऊंचा कर सकते और उन्हें उपभोगता के आमने सामने बैठना होता । लेकिन ललित पाठक इस बात को मानने को तैयार नही थे और इसी बात को लेकर वह गलत बोलने लगे पड़े । वही सुनील छाबड़ा ने भी बताया कि उपभोगता कमीशन के कई लोग वहां अपनी दुकानदारी खोल के बैठे और बिना वजह उपभोगता ओर उसके वकीलो को तंग परेशान किया जा रहा । वकीलो ने बताया कई केसों में तो ललित पाठक ने स्टेट कमीशन के आदेशों तक को मानने से इनकार कर दिया ओर वह अपने हिसाब से ही आदेश जारी कर रहे।
वकीलो ने यह भी आरोप लगाया कि केस को लीगल तरीके से चालाने की बजाय कई जगह ललित पाठक गवाह  सुने बिना ही बहस पर केस को लगा रहे । कई केस तो 2 से 3 साल से पेंडिंग पड़े। वही प्रधान खलार सिंह धम ने वकीलो को आश्वासन दिलाया कि वह वकीलो के साथ कंधे से कंधा जोड़ खड़े है और बार के किसी वकील के साथ धक्का नही होने दिया जाएगा । उन्होंने बार की मीटिंग में बताया जब वह प्रधान बने थे उसके बाद जब वह उपभोक्ता कमीशन के चैयरमैन से मिलने गए तो वहां के स्टाफ ओर उनका खुद का व्यवहार तसली बक्श नही था। वही आज सभी वकीलों ने मता पास कर उपभोक्ता कमीशन का बाई काट करने की बात कही और जब तक ललित पाठक, मेंबर राजित सरीन ओर रीडर गुरप्रताप की बदली नहीं हो जाती तब तक कपूरथला बार या अन्य किसी बार  का कोई भी मेम्बर उपभोक्ता कमीशन कपूरथला में  निजी तौर पर या वीडियो कॉलिंग के जरिये पेश नहीं होगा ओर कमीशन बार की तरफ से लिखती सूचना दे दी जाएगी कि पेंडिंग केसों में कोई भी आदेश तब तक न किये जायें जब तक स्टेट कमीशन से इस मसले का हल नहीं निकलता। इसकी एक कॉपी माननीय चीफ जस्टिस पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट को भी भेज दी गयी थी। जिसके बाद आज बार की तरफ से किये गए फैसले की एक कॉपी उपभोक्ता कमीशन कपूरथला को तथा डी सी कपूरथला को बार की तरफ से सौंपी गई।
इस मौके पर बार एसोसिएशन के प्रधान  खल्लार सिंह धम्म, एडवोकेट टी एस ढिल्लों, प्रदीप ठाकुर, एस एस मल्ली, दलजीत सिंह, हरमन बावा, पीयूष मनचंदा आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *