वीरेश कुमार भावरा ने डीजीपी पंजाब का पद संभाला

चंडीगढ़, 8 जनवरी। 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी वीरेश कुमार भावरा ने शनिवार को पंजाब के डायरैक्टर जनरल आफ पुलिस का पद संभाल लिया है।
राज्य सरकार द्वारा जारी हुक्मों में लिखा गया है, ‘संघ लोक सेवा आयोग के पैनल के विचार मुताबिक, पंजाब के राज्यपाल, श्री वीरेश कुमार भावरा, आई.पी.एस. को डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस, पंजाब (पुलिस प्रमुख) के तौर पर नियुक्त करते हुए मान महसूस करते हैं।’’
अपना पद संभालने के बाद नवनियुक्त डी.जी.पी. पंजाब ने कहा कि पंजाब विधान सभा चुनाव-2022 नज़दीक हैं और पंजाब पुलिस की तरफ से निर्विघ्न और पारदर्शी ढंग से चुनाव करवाने को यकीनी बनाया जायेगा।
डीजीपी वीरेश भावरा ने कहा कि निर्विघ्न और सुचारू रूप में चुनाव को यकीनी बनाने के साथ-साथ उनका ध्यान राज्य में से नशाखोरी और आतंकवाद को रोकने पर होगा। उन्होंने आगे कहा कि लोग केन्द्रित पुलिस सेवाओं और पब्लिक सर्विस डिलीवरी प्रमुख प्राथमिकताओं में शामिल हैं।
डीजीपी ने कहा कि पंजाब पुलिस विभिन्न अपराधों की जांच के लिए प्रौद्यौगिकी का अधिक से अधिक प्रयोग करेगी।
ज़िक्रयोग्य है कि वीरेश भावरा जो कि पुलिस मैडल मैरीटोरियस सर्विस और डिस्टिंगुज़िट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस मैडल के ऐवार्डी हैं, ने पंजाब, असम और इंटेलिजेंस ब्यूरो, भारत सरकार में अलग-अलग पदों पर शानदार सेवाएं निभाई हैं। वह एसएसपी मानसा, डीआईजी पटियाला रेंज और आईजीपी /बठिंडा के तौर पर भी काम कर चुके हैं। वह डीजीपी/एडीजीपी-इंटेलिजेंस, प्रोविजनिंग और आधुनिकीकरण, सूचना प्रौद्योगिकी और दूरसंचार, ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन, आंतरिक निगरानी और मानवीय अधिकार और कल्याण के तौर पर पंजाब पुलिस के अलग-अलग विंगों के प्रमुख के तौर पर काम कर चुके हैं। उन्होंने ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन की सृजन करने में अहम भूमिका निभाई और ब्यूरो के पहले निदेशक के तौर पर भी तैनात रहे हैं। आईटी एंड टी विंग में अपनी तैनाती के दौरान उन्होंने सी.सी.टीएनएस प्रोजेक्ट को लागू करने और पंजाब पुलिस द्वारा सोशल मीडिया के क्रियाशील प्रयोग का नेतृत्व किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *