हाई कोर्ट के फैसले का इन्तजार किये बिना एमीनेंट कम्पनी को बिजली विभाग को बेचने का फैसला दुर्भाग्यपूर्ण, हड़ताल होगी

चण्डीगढ़, 7 जनवरी। केन्द्रीय कैबिनेट द्वारा माननीय पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट के फैसले का इन्तजार किये बिना चण्डीगढ़ प्रशासन द्वारा बिजली के निजीकरण सम्बन्धी भेजी गई बिड़िग प्रोसेस को मंजूरी देना दुर्भाग्यपूर्ण है। केन्द्रीय कैबिनेट के फैसले का विरोध करते हुए यूटी पावरमैन यूनियन ने 10 जनवरी 2022 को सभी दफ्तरों में रोष प्रर्दषन करने व 11 जनवरी 2022 को बिजली दफ्तर सेक्टर 17 में विशाल धरना व प्रर्दषन करने का फैसला किया है तथा धरने में हड़ताल की तिथि का ऐलान किया जायेगा।
यूनियन के प्रधान ध्यान सिंह की अध्यक्षता में हुई मीटिंग में केन्द्र सरकार तथा चण्डीगढ़ प्रशासन पर आरोप लगाया कि प्रशासन ने माननीय पंजाब व हरियाणा उच्च न्यायालय द्वारा 16 फरवरी 2021 को दिये फैसले की उल्लंघना की है जिसमें माननीय उच्च न्यायालय ने यह स्पष्ट निर्णय दिया है कि प्रशासन द्वारा किया गया कोई भी निर्णय व कार्यवाही हाईकोर्ट द्वारा दिये जाने वाले अन्तिम निर्णय पर निर्भर करेगी। यह बहुत ही दुखदायी है कि प्रषासन ने पंजाब , हरियाणा उच्च न्यायालय के फैसले की अनदेखी करके फाईनैंस बिड भी खोल दी तथा केन्द्र सरकार को अंधेरे में रखकर उस पर कैबिनेट की मुँहर भी लगवा ली जो सीधे तौर पर कोर्ट की अवमानना है कयोंकि माननीय हाईकोर्ट ने अभी मेरिट के आधार पर अन्तिम निर्णय नहीं दिया है तथा कोर्ट में अगली सुनवाई 20 जनवरी है।
यूनियन की मीटिंग में यह निर्णय लिया गया कि बिजली कर्मचारी किसी भी कीमत पर प्राईवेट कम्पनी के अधीन काम नहीं करेंगे तथा प्रषासन से मांग की गई कि उन्हें विभाग के अधीन रखा जाये व अन्य विभागों में अडजस्ट किया जाये व उनका सरकार स्टेटस बरकरार रखा जाये।
यूनियन ने चण्डीगढ़ की तमाम ट्रेड यूनियनों, रैजीडैन्ट वैल्फेयर ऐसोसिएशन, सामाजिक व धर्मिक संगठनों तथा राजनैतिक पार्टियों को निजीकरण का पुरजोर विरोध करने की अपील की है तथा बिजली कर्मचारियों के संघर्ष की हिमायत करने की अपील की है क्योंकि निजीकरण करने के बाद कर्मचारियों के साथ आम जनता को भी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी क्योंकि ऐमीनेंट कम्पनी की बिजली दरें देश में सबसे अधिक है जिसे खुद देश के बिजली मंत्री भी कबूल चुके हैं।
यूनियन की कार्यकारिणी ने सभी कर्मचारियों को 11 जनवरी 2022 को बिजली दफ्तर सेक्टर 17 में दिये जा रहे धरने में भारी गिनती में शामिल होने की अपील की है जिसमें हड़ताल की तिथि का ऐलान किया जायेगा। यह जानकारी यूनियन के मासचिव गोपाल दत्त जोषी ने जारी एक विज्ञप्ति में दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *