हमारी देश-भक्ति पर सवाल उठाना और पंजाब को बदनाम करना बंद करो मोदी: चन्नी

माछीवाड़ा साहिब, 6 जनवरी। पंजाब की राष्ट्रवादी साख पर सवाल उठाने वालों को करारा जवाब देते हुए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने गुरुवार को स्पष्ट किया कि पंजाबियों ने कभी भी देश के लिए बलिदान करने में झिझक नहीं दिखाई और वह भी देश के अन्य वर्गों की तरह ही देश-भक्त हैं।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा फिऱोज़पुर में बिना संबोधन किए वापस चले जाने की कल की घटना का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री ने यहाँ दाना मंडी में कहा कि वास्तविकता यह है कि रैली वाली जगह पर सिफऱ् 700 लोग ही पहुँचे थे, जिसने प्रधानमंत्री को अपने कदम पीछे मोडऩे के लिए मजबूर किया और बाद में प्रधानमंत्री की सुरक्षा को खतरे का बहाना लगाते हुए दोष पंजाब सरकार पर मढ़ दिया गया। चन्नी ने कहा, ‘‘सच्चाई यह है कि प्रधानमंत्री की निर्धारित रैली से पाँच दिन पहले, स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) ने लैंडिंग स्पॉट, रैली वाली जगह और हरेक सुरक्षा विवरण ले लिए थे, परन्तु बाद में प्रधानमंत्री के काफि़ले ने अचानक ज़मीनी रास्ता पकड़ लिया, जोकि एस.पी.जी. द्वारा क्लियर किया गया था।’’
मुख्यमंत्री ने फिर दोहराया कि यदि प्रधानमंत्री को कोई खतरा है तो हर पंजाबी देश-भक्त होने के नाते अपना खून बहाने और गोलियों का सामना करने के लिए तैयार है, जैसे कि वह पहले भी देश की शान और मर्यादा की बहाली के लिए करते आए हैं।
मुख्यमंत्री चन्नी ने पंजाब विरोधी ताकतों को राज्य को बदनाम करना बंद करने के लिए कहा। उन्होंने सवाल किया कि प्रधानमंत्री के आस-पास ख़ुफिय़ा तंत्र क्या कर रहा है, क्या उन्होंने प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए किसी भी तरह की खतरे की संभावना महसूस की थी।
इसी तरह मुख्यमंत्री चन्नी ने पंजाब विरोधी ताकतों को बदले की भावना वाली राजनीति से दूर रहने के लिए कहा और इस बात पर विचार करने की सलाह दी कि लोग, ख़ासकर किसान, उनको क्यों पसंद नहीं करते।
इससे पहले मुख्यमंत्री चन्नी ने ऐतिहासिक गुरुद्वारा श्री चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा साहिब में मत्था टेका और वहां रुमाला साहिब भी भेंट किया। उनको हैड ग्रंथी हरपाल सिंह और मैनेजर सरबदयाल सिंह द्वारा सिरोपाओ देकर सम्मानित किया गया। उनको श्री गुरु गोबिन्द सिंह जी की एक पेंटिंग भी दी गई, जिसमें गुरु साहिब जी को ऐतिहासिक जंड साहिब के नीचे ‘माछीवाड़ा दा जंगल’ में विश्राम करते हुए चित्रित किया गया है।
इस दौरान मुख्यमंत्री ने पंजाब सरकार द्वारा नेशनल कॉलेज फॉर वुमेन (माछीवाड़ा) को सरकारी कॉलेज फॉर वुमेन के तौर पर अपनाए जाने के उपरांत संभाले जाने का औपचारिक उद्घाटन भी किया।
उन्होंने अपनी सरकार द्वारा उठाए गए जनहितैषी कदमों की बात करते हुए कहा कि सरकार द्वारा राज्य के हरेक युवा के बैंक खाते में जल्द ही 2000 रुपए प्रति दिए जाएंगे। इसके अलावा, उन्होंने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में क्रमवार 10 रुपए और 5 रुपए की कटौती, घरेलू उपभोक्ताओं के लिए बिजली दरों में 3 रुपए प्रति यूनिट की कटौती, पानी की आपूर्ति की दरों को घटाकर 50 रुपए पर लाने, गौशालाओं के 19 करोड़ रुपए के बिजली बिलों को माफ करने, 52000 आंगनवाड़ी वर्करों/हेल्परों के अलावा 67000 आशावर्करों और मिड डे मील वर्करों के मासिक मानदेय में वृद्धि करने जैसी अपनी सरकार की प्रमुख उपलब्धियां भी बताईं।
केजरीवाल पर निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री ने उसे ब्रिटिश उपनिवेशवादियों के साथ जोड़ते हुए कहा कि वह अपने भगवंत मान जैसे साथियों की मदद से पंजाब पर कब्जा करने के लिए तैयार है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बिक्रम सिंह मजीठिया एक भगौड़ा है, जो अपने कुकर्मों के कारण कानून से भगौड़ा है।
इस मौके पर अन्यों के अलावा उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री गुरकीरत सिंह कोटली, विधायक (समराला) अमरीक सिंह ढिल्लों, विधायक (पायल) लखबीर सिंह लक्खा और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सतविन्दर कौर बिट्टी, निदेशक (प्रशासन) पंजाब ट्रांस्को करनबीर सिंह ढिल्लों, कमलजीत सिंह ढिल्लों, चेयरमैन मार्केट कमेटी दर्शन कुन्द्रा, प्रधान नगर काउंसिल सुरिन्दर कुन्द्रा, चेयरमैन इम्प्रूवमैंट ट्रस्ट, शक्ति आनंद और अन्य बहुत से नेता उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.